Introduction

 

ऋषि मिशन न्यास एक वैचारिक आंदोलन है, इससे प्रत्येक व्यक्ति जुड़ सकता है व इसका सदस्य बन सकता । मिशन का मुख्य उद्देश्य मानव का चरित्रवान निर्माण करना है।

ऋषि मिशन न्यास के उद्देश

  1. भारतीय /वैदिक संस्कृति / वेद ज्ञान प्रचार एवं वैदिक धर्म का प्रचार प्रसार करना एवं महर्षि दयानन्द सरस्वती जी के द्वारा मान्य सिद्धान्तों के अनुसार समाज में वेद प्रचार के कार्यों को क्रियान्वित करना।
  2. प्रतिभावान अनाथ बच्चों की शिक्षा में योगदान एवं उन्हें अपनी ओर से शिक्षा का अध्ययन करवाना ।
  3. अनाथ बच्चों को आर्ष गुरुकुलों  में पढ़ाना तथा उन्हें विद्वान बनाना ।
  4. विद्वान,सरल स्वभाव तथा वानप्रस्थी,संन्यासी जो अपने घर व समाज से उपेक्षित है ऐसे उपेक्षितों  को सहायता प्रदान करना तथा उनके लिये आश्रय  प्रदान करना
  5. वैदिक पद्धति से समाज को अवगत करना और वैदिक पद्धति के द्वारा ज्ञान उपलब्ध  करवाना
  6. ग्राम नगर आदि मे वैदिक भजनोपदेशक के कार्यक्रम करवाना
  7. सघन वृक्षारोपण करके पर्यावरण संरक्षण एवं वातावरण को स्वच्छ  रखना
  8. सत्संग के माद्यम से लोगो मे चरित्र निर्माण करना एवं भाईचारे को बढावा देना
  9. प्रत्येक नगर में विद्वान सज्जनो द्वारा जन समुदाय के लिए प्रवचन करना ओर करवाना
  10. शिक्षा के प्रसार एवं प्रचार के लिये कार्य करना ओर करवाना एवं आवश्यकतानुसार  निर्धन एवं अल्प आय के बच्चो के ज्ञानार्जन हेतु विद्यालय चलना
  11. उपरोक्त उद्देश्यो की पूर्ति के लिये जो कार्य आवश्यक हो उनका निष्पादन करना करवाना
  12. इनमें किसी भी सदस्य का व्यक्तिगत स्वार्थ नहीं है तथा उक्त कार्य बिना राजनैतिक होगे तथा कोई भी कार्य सदस्यो के आर्थिक लाभ की दृष्टि से नहीं किया जायेगा व कोई भी सदस्य प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से लाभ नहीं उठा पायेगे