नमस्ते भगवन्   !!! इस  वेबसाइट पर उपलब्ध  सभी साहित्य पर  500 / रु. से अधिक की  पुस्तकें खरीदने पर होम  डिलेवरी सिर्फ आज  के दिन  फ्री आज ही ऑर्डर करें / अधिक जानकारी के लिए काल  करें  9314394421

Bhaaratavarsh ka itihaas

Rs.400.00

भारतवर्ष की सर्वप्रथम सभ्यता तो वैदिक सभ्यता ही थी, जिससे भारतवर्ष का इतिहास प्रारंभ होता है। भारतीय इतिहास के प्रथम स्रोत भी वैदिक ग्रंथ ही है जैसे वेदों की वे शाखाएं जिनमें ब्राह्मण- पाठ सम्मिलित है, ब्राह्मण ग्रंथ, कल्पसूत्र,आरण्यक और उपनिषद ग्रंथ !
इन ग्रंथों में भारत-युद्ध काल के सहस्त्र वर्ष पूर्व की अनेक ऐतिहासिक घटनाएं वर्णित है। भारतीय वांग्मय में स्थान-स्थान पर इतिहास की घटनाओं का वर्णन भरा पड़ा है, लेखक ने उन घटनाओं को क्रमबद्ध करने का संक्षिप्त प्रयास किया है। भारतीय इतिहास को बहुत विकृत कर दिया गया है। सत्य को असत्य प्रदर्शित किया जाता है और असत्य को सत्य बनाने का यत्न किया गया । इसके भयंकर दुष्परिणाम हुए-भारतीय अपना भूत ही भूल गए वे इन मिथ्या कल्पनाओं को ही सत्य समझने लगे । लेखक ने अपने अध्ययन काल में ही निश्चय कर लिया था कि वह अपना सारा जीवन भारतीय संस्कृति और इतिहास के पाठ तथा स्पष्टीकरण में लगाएंगे। आशा है इतिहास के लेखक और पाठक उनके इस परिश्रम से लाभान्वित होंगे

Compare

Additional information

Weight 570 g
Dimensions 22 × 14 × 3 cm

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Bhaaratavarsh ka itihaas”

Your email address will not be published.