नमस्ते भगवन्   !!! इस  वेबसाइट पर उपलब्ध  सभी साहित्य पर  500 / रु. से अधिक की  पुस्तकें खरीदने पर होम  डिलेवरी सिर्फ आज  के दिन  फ्री आज ही ऑर्डर करें / अधिक जानकारी के लिए काल  करें  9314394421

Yogdarshanam vyas bhasya sahit swami (styapati ji privrajak hindi bhasy sahit)

Rs.160.00

समस्त दुखों से निवृत्ति मुक्ति प्राप्त कर लेने पर ही होती है। मुक्ति अविद्या के संस्कारों के नष्ट होने पर संभव है। अविद्या के संस्कार ईश्वर साक्षात्कार के बिना नष्ट नहीं हो सकते और ईश्वर का साक्षात्कार समाधि के बिना नहीं हो सकता। समाधि चित्तवृत्ति निरोध का नाम है। चित्त वृत्तियों का निरोध यम नियम आदि योग के आठ अंगों का पालन करने से होता है। इन यम नियमों से लेकर समाधि और आगे मुक्ति तथा अन्य समस्त साधकों और साधकों का संपूर्ण विधि विधान योग दर्शन में विद्यमान है। हमारा सौभाग्य है कि आज भी हमें महर्षि पतंजलि जैसे महान ऋषियों का संदेश मोक्ष प्राप्ति करने कराने के लिए उपलब्ध है।
मात्र 160/-

8 in stock

Compare

Additional information

Weight 800 g

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Yogdarshanam vyas bhasya sahit swami (styapati ji privrajak hindi bhasy sahit)”

Your email address will not be published.